खनिज संसाधन विभाग, मध्यप्रदेश सरकार

हमारे बारे में

प्रदेश के औद्योगिकी विकास में खनिज साधनों का महत्व।पूर्ण योगदान होता है। खनिज उपलब्ध1ता की दृष्टि से मध्योप्रदेश राष्ट्रस का चौथा खनिज सम्पपन्नन राज्य है। विकास की आवश्यखकता के अनुरूप खनिजों की मांग औद्योगिकी प्रगति के साथ बढ़ती जाती है। खनिज साधन विभाग द्वारा खनिजों के संरक्षण, अन्वेंषण एवं विधिमान्यक नियमों के अंतर्गत खनिजों के दोहन पर सतत् निगरानी रखते हुए निरंतर कार्यवाही की जा रही है। खनिज साधन विभाग के अधीन गठित मध्यनप्रदेश राज्यत खनिज निगम द्वारा कुछ खनिजों के दोहन का कार्य भी किया जा रहा है। विभाग द्वारा की जा रही कार्यवाही से प्रदेश के राजकोषीय आय में निरंतर वृद्धि तथा नये खनिज भंडारों की खोज का मार्ग प्रस्तुत हो रहा है। वर्ष 2017-18 तक 4281.62 करोड़ खनिज राजस्व राजकीय कोष में संग्रहित हुआ है।

1.1 विभागीय संरचना, अधीनस्थ कार्यालय

खनिज साधन विभाग के अंतर्गत संचालनालय भौमिकी तथा खनिकर्म मध्यवप्रदेश तथा सार्वजनिक उपक्रम के रूप में मध्य प्रदेश राज्या खनिज निगम कार्यरत है।

संचालनालय भौमिकी तथा खनिकर्म का मुख्या।लय भोपाल में स्थापपित है। इसके अधीन चार क्षेत्रीय कार्यालय जबलपुर, इन्दौुर, रीवा, ग्वा।लियर तथा एक हीरा कार्यालय पन्नाा में स्थािपित है। समस्तर 51 जिलों में कलेक्ट र के निर्देशन में खनि शाखा कार्यरत है। क्षेत्रीय कार्यालय जबलुपर में विभागीय रासायनिक प्रयोगशाला कार्यरत है।

मध्यसप्रदेश राज्य खनिज निगम का मुख्याखलय भोपाल में स्थित है। इसके अधीनस्थ 16 कार्यालय जबलपुर,दतिया ,खरगोन , कटनी, मण्डला, सागर, टीकमगढ़, होशंगाबाद, हरदा, सतना, धार, झाबुआ, मुरैना, होशंगाबाद, शिवपुरी, डबरा (ग्वा‍लियर), देवास, सागर, धार, टीकमगढ़, हरदा, सतना में स्थित है।